हैकरों का दुश्मन - त्रिशनीत अरोड़ा | Success Story In Hindi

Story of Trishneet Arora in Hindi. Success Businessman Story in Hindi, Motivational Story in Hindi, Story in Hindi, Successful Entrepreneurs Stories in Hindi, Entrepreneur in Hindi, Success Stories of Indian Entrepreneurs in Hindi.
Share it:

Successful Entrepreneurs In India 

हैकरों का दुश्मन
Success Stories of Indian Entrepreneurs in Hindi
काबिलियत हो तो डिग्री पानी भरती है। यह सच कर दिखाया हैं। लुधियाना के त्रिशनीत अरोड़ा ने यह सच हैं की आपके अंदर जूनून और ललक हैं तो आप कुछ भी कर सकते हैं पढ़ाई - लिखाई डिग्री कोई मायने नहीं रखती। 24 साल का त्रिशनीत अरोड़ा आज कई करोड़ की कंपनी टीएसी का मालिक हैं। केवल कम्प्यूटर जानने की काबिलियत पर जो उन्होंने अपनी पढाई की कीमत पर हासिल की हैं। उन्होंने 4 साल पहले अपनी कंपनी की शुरआत की हैं। त्रिशनीत अरोड़ा ने आठवीं में ही पढ़ाई छोड़ दी थी। घर वाले ने दबाव डाला तो ओपन लर्निंग से 10 वीं कर ली उसके बाद उन्हें पढ़ाई का वक़्त नहीं मिला।

त्रिशनीत अरोड़ा को बचपन में जब इलेक्ट्रोनिक खलौना मिलता था तो थोड़ी देर खेलने के बाद उन्हें जानने की इच्छा होती थी की यह कैसे काम करता हैं त्रिशनीत अरोड़ा 8 - 9 साल की उम्र में कंप्यूटर चलना जान गए थे उनके पापा टैक्स कंसल्टेंट थे तो घर में कंप्यूटर था वह अपने घर के कंप्यूटर को ही ख़राब करते और फिर ठीक करते ठीक नहीं होने पर उसे दुकान पर ले जाते और वही देखते की इसके पुर्जे को कैसे लगया गया है ऐसे ही कुछ दिन चला फिर जब पड़ोसी या कोई रिस्तेदार का कप्यूटर ख़राब होता तो ठीक करने के लिए बुलाने लगे इनके पास 2 -3 साल में 8 कंप्यूटर हो गए।

कप्म्यूटर ज्यादा हो जाने पर त्रिशनीत अरोड़ा ने उनकी नेटवर्किंग करना शुरू किया लैन समेत अन्य कई प्रकार की नेटवर्किंग वह इंटरनेट देख के करते जब नेटवर्किंग होगी तो सिक्योरिटी तो होगी ही तो उन्होंने इसका प्रेक्टिकल करते 13 साल की उम्र में वे एथिकल हैकिंग तक जान चुके थे शरारती दिमाग के चलते उन्हें हैकिंग अच्छी लगती थी 

जब उनसे पूछा गया की आपकी पहली कमाई कब हुई उन्होंने बोला की 2013 में ट्रेनिंग का काम शुरू किया उस समय उतर भारत के इंजीनियरिंग कॉलेज IIT और बहुत सारे संसस्था में ट्रेनिंग देने गए वही से हमारी पहली कमाई हुई उसके बाद कॉर्पोरेट दुनया में आये राल्को टायर्स उनका पहला क्लाइंट था
Successful Entrepreneurs Stories in Hindi

आज युपी में टैक्स भरने से लेकर बैंको का पैमेंट, नेटबैंकिंग, चुनाव और कई साइबर सिक्योरिटी का काम त्रिशनीत अरोड़ा की कंपनी के पास हैं सीबीआई, पंजाब पुलिस, गुजरात पुलिस, रिलाइंस इंडस्ट्रीज के साथ चार देशो की सरकारें और देश दुनया 500 बड़ी कंपनी त्रिशनीत अरोड़ा की कंपनी के क्लाइंट हैं

त्रिशनीत अरोड़ा जिंदगी के बेहतर लम्हे के बारे में बताते हैं की जब सराहना होती है तो अच्छा लगता हैं अमेरिका के सांता फे शहर के मेयर ने 25 अगस्त को ऐलान किया की 25 अगस्त त्रिशनीत अरोड़ा डे के रूप में मनाया जायगा विदेश से वक्ता सम्मेलन के लिए बुलाया जाता हैं तो अच्छा लगता हैं त्रिशनीत अरोड़ा को सबसे पहला आवार्ड पंजाब का स्टेट आवार्ड मिला उसके बाद यंगेस्ट अचीवर आवार्ड और बहुत सरे सम्मान मिला हैं त्रिशनीत अरोड़ा को आज बहुत खुशी होती हैं की एक छोटे कमरे से शरू कर आज इतनी बड़ी कंपनी बन चुकी हैं त्रिशनीत अरोड़ा सबसे उम्र के कर्मचारी है इस कंपनी में कंपनी का दफ्तर चंडीगढ़ और अमेरिका में हैं

निवेशक विजय केडिया ने इस कंपनी में पैसा लगया हैं लारेंस आंग और विलिम जैसे दिग्गज कंपनी के बोर्ड में हैं त्रिशनीत अरोड़ा कहते हैं की हम मल्टी मिलियन डॉलर कंपनी हैं लेकिन हमें यह भी पता नहीं था की मल्टी मिलियन कितना होता हैं। त्रिशनीत अरोड़ा कहते हैं की में टीएसी को बिलियन डॉलर कंपनी बनाना चाहता हूँ 2020 नैस्डेक में लिस्टेड करने का मेरा सपना हैं

त्रिशनीत अरोड़ा ने हैकिंग पर किताब भी लिखी हैं Hacking TALK with Trishneet Arora, The Hacking Era, Hacking With Smart Phones.

यह भी पढ़ें:-

Note: - आप अपने comments के माध्यम से बताएं कि Success Businessman Story In Hindi आपको कैसा लगा।
Share it:

Inspiring Entrepreneurs

Post A Comment:

0 comments: