Total Pageviews

Blog Archive

Search This Blog

भगवान् महावीर के सर्वश्रेष्ठ अनमोल वचन | Bhagwan Mahavir Quotes In Hindi

Lord Mahavira Quotes in Hindi, Mahavir Swami Quotes in Hindi, Mahavir Quotes in Hindi, Lord Mahavir Quotes in Hindi, Bhagwan Mahavir Quotes in Hindi, Jain Quotes in Hindi, Mahavira in Hindi, Bhagwan Mahavir Thoughts In Hindi.
Share it:

Lord Mahavira Quotes in Hindi 

भगवान् महावीर के अनमोल विचार
mahavir quotes in hindi

Quote 1: केवल वही व्यक्ति सही निर्णय ले सकता है, जिसकी आत्मा बंधन और विरक्ति की यातना से संतप्त ना हो
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 2: प्रबुद्ध व्यक्ति को यह विचार करना चाहिए कि उसकी आत्मा असीम उर्जा से संपन्न है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 3: जैसे एक कछुआ अपने पैर शरीर के अन्दर वापस ले लेता है, उसी तरह एक वीर अपना मन सभी पापों से हटा स्वयं में लगा लेता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 4: जो भय का विचार करता है वह खुद को अकेला (और असहाय) पाता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 5: जो जागरूक नहीं है उसे सभी दिशाओं से डर है जो सतर्क है उसे कहीं से कोई भी डर नहीं है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 6: साहसी हो या कायर दोनों को को मरना ही है जब मृत्यु दोनों के लिए अपरिहार्य है, तो मुस्कराते हुए और धैर्य के साथ मौत का स्वागत क्यों नहीं किया जाना चाहिए?
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 7: जन्म का मृत्यु द्वारा, नौजवानी का बुढापे द्वारा और भाग्य का दुर्भाग्य द्वारा स्वागत किया जाता है इस प्रकार इस दुनिया में सब कुछ क्षणिक है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 8: जैसे कि हर कोई जलती हुई आग से दूर रहता है, इसी प्रकार बुराइयां एक प्रबुद्ध व्यक्ति से दूर रहती हैं
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 9: बाहरी त्याग अर्थहीन है यदि आत्मा आंतरिक बंधनों से जकड़ी रहती है।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 10: कीमती वस्तुओं की बात दूर है, एक तिनके के लिए भी लालच करना पाप को जन्म देता है. एक लालचरहित व्यक्ति, अगर वो मुकुट भी पहने हुए है तो पाप नहीं कर सकता
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 11: जिस प्रकार आग इंधन से नहीं बुझाई जाती, उसी प्रकार कोई जीवित प्राणी तीनो दुनिया की सारी दौलत से संतुष्ट नहीं होता
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 12: जितना अधिक आप पाते हैं, उतना अधिक आप चाहते हैं लाभ के साथ-साथ लालच बढ़ता जाता है जो २ ग्राम सोने से पूर्ण किया जा सकता है वो दस लाख से नहीं किया जा सकता
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 13: एक कामुक व्यक्ति, अपने वांछित वस्तुओं को प्राप्त करने में नाकाम रहने पर पागल हो जाता है और किसी भी तरह से आत्महत्या करने के लिए तैयार भी हो जाता है।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 14: एक चोर न तो दया और ना ही शर्म महसूस करता है, ना ही उसमे कोई अनुशासन और विश्वास होता है। ऐसी कोई बुराई नहीं है जो वो धन के लिए नहीं कर सकता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 15: भिक्षुक (संन्यासी) को उस पर नाराज़ नहीं होना चाहिए जो उसके साथ दुर्व्यवहार करता है। अन्यथा वह एक अज्ञानी व्यक्ति की तरह होगा। इसलिए उसे क्रोधित नहीं होना चाहिए।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 16: साधक ऐसे शब्द बोलता है जो नपे-तुले हों और सभी जीवित प्राणियों के लिए लाभकारी हों
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 17: वाणी के अनुशासन में असत्य बोलने से बचना और मौन का पालन करना शामिल है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 18: किसी को चुगली नहीं करनी चाहिए और ना ही छल-कपट में लिप्त होना चाहिए
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 19: किसी को तब तक नहीं बोलना चाहिए जब तक उसे ऐसे करने के लिए कहा न जाय. उसे दूसरों की बातचीत में व्यवधान नहीं डालना चाहिए
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 20: किसी के सिर पर गुच्छेदार या उलझे हुए बाल हों या उसका सिर मुंडा हुआ हो, वह नग्न रहता हो या फटे-चिथड़े कपड़े पहनता हो लेकिन अगर वो झूठ बोलता है तो ये सब व्यर्थ और निष्फल है
Lord Mahavir भगवान् महावीर
bhagwan mahavir quotes in hindi


Quote 21: एक सच्चा इंसान उतना ही विश्वसनीय है जितनी माँ, उतना ही आदरणीय है जितना गुरु और उतना ही परमप्रिय है जितना ज्ञान रखने वाला व्यक्ति
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 22: केवल सत्य ही इस दुनिया का सार है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 23: सत्य के प्रकाश से प्रबुद्ध हो, बुद्धिमान व्यक्ति मृत्यु से ऊपर उठ जाता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 24: हे स्व! सत्य का अभ्यास करो, और और कुछ भी नहीं बस सत्य का
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 25: जो सुख और दुःख के बीच में समनिहित रहता है वह एक श्रमण है, शुद्ध चेतना की अवस्था में रहने वाला।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 26: मुझे अनुराग और द्वेष, अभिमान और विनय, जिज्ञासा, डर, दु: ख, भोग और घृणा के बंधन का त्याग करने दें (समता को प्राप्त करने के लिए)
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 27: केवल वह व्यक्ति जो भय को पार कर चुका है, समता को अनुभव कर सकता है।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 28: जीतने पर गर्व ना करें. ना ही हारने पर दुःख
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 29: जिस प्रकार आप दुःख पसंद नहीं करते उसी तरह और लोग भी इसे पसंद नहीं करते ये जानकर, आपको उनके साथ वो नहीं करना चाहिए जो आप उन्हें आपके साथ नहीं करने देना चाहते
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 30: किसी जीवित प्राणी को मारे नहीं उन पर शाशन करने का प्रयास नहीं करें
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 31: जो लोग जीवन के सर्वोच्च उद्देश्य से अनजान हैं वे व्रत रखने और धार्मिक आचरण के नियम मानने और ब्रह्मचर्य और ताप का पालन करने के बावजूद निर्वाण (मुक्ति) प्राप्त करने में सक्षम नहीं होंगे।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 32: जो रातें चली गयी हैं वे फिर कभी नहीं आएँगी वे अधर्मी लोगों द्वारा बर्बाद कर दी गयी हैं
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 33: अज्ञानी कर्म का प्रभाव ख़त्म करने के लिए लाखों जन्म लेता है जबकि आध्यात्मिक ज्ञान रखने और अनुशासन में रहने वाला व्यक्ति एक क्षण में उसे ख़त्म कर देता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 34: वो जो सत्य जानने में मदद कर सके, चंचल मन को नियंत्रित कर सके, और आत्मा को शुद्ध कर सके उसे ज्ञान कहते हैं
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 35: केवल वही विज्ञान महान और सभी विज्ञानों में श्रेष्ठ है, जिसका अध्यन मनुष्य को सभी प्रकार के दुखों से मुक्त कर देता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 36: जिस प्रकार धागे से बंधी (ससुत्र) सुई खो जाने से सुरक्षित है, उसी प्रकार स्व-अध्ययन (ससुत्र) में लगा व्यक्ति खो नहीं सकता है।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 37: एक जीवित शरीर केवल अंगों और मांस का एकीकरण नहीं है, बल्कि यह आत्मा का निवास है जो संभावित रूप से परिपूर्ण धारणा (अनंत-दर्शन), संपूर्ण ज्ञान (अनंत-ज्ञान), परिपूर्ण शक्ति (अनंत-वीर्य) और परिपूर्ण आनंद (अनंत-सुख) है ।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 38: सभी अज्ञानी व्यक्ति पीड़ाएं पैदा करते हैं। भ्रमित होने के बाद, वे इस अनन्त दुनिया में दुःखों का उत्पादन और पुनरुत्थान करते हैं।
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 39: क्या तुम लोहे की धधकती छड़ सिर्फ इसलिए अपने हाथ में पकड़ सकते हो क्योंकि कोई तुम्हे ऐसा करना चाहता है? तब , क्या तुम्हारे लिए ये सही होगा कि तुम सिर्फ अपनी इच्छा पूरी करने के लिए दूसरों से ऐसा करने को कहो यदि तुम अपने शरीर या दिमाग पर दूसरों के शब्दों या कृत्यों द्वारा चोट बर्दाश्त नहीं कर सकते हो तो तुम्हे दूसरों के साथ अपनों शब्दों या कृत्यों द्वारा ऐसा करने का क्या अधिकार है?
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 40: आत्मा अकेले आती है अकेले चली जाती है, न कोई उसका साथ देता है न कोई उसका मित्र बनता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 41: खुद पर विजय प्राप्त करना लाखों शत्रुओं पर विजय पाने से बेहतर है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 42: आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं , वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच, आसक्ति और नफरत
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 43: स्वयं से लड़ो, बाहरी दुश्मन से क्या लड़ना? वह जो स्वयम पर विजय कर लेगा उसे आनंद की प्राप्ति होगी
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 44: एक व्यक्ति जलते हुए जंगल के मध्य में एक ऊँचे वृक्ष पर बैठा है वह सभी जीवित प्राणियों को मरते हुए देखता है लेकिन वह यह नहीं समझता की जल्द ही उसका भी यही हस्र होने वाला है वह आदमी मूर्ख है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 45: अहिंसा सबसे बड़ा धर्म है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 46: सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं, और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 47: सभी जीवित प्राणियों के प्रति सम्मान अहिंसा है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 48: हर एक जीवित प्राणी के प्रति दया रखो घृणा से विनाश होता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 49: प्रत्येक आत्मा स्वयं में सर्वज्ञ और आनंदमय है आनंद बाहर से नहीं आता
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 50: भगवान् का अलग से कोई अस्तित्व नहीं है हर कोई सही दिशा में सर्वोच्च प्रयास कर के देवत्त्व प्राप्त कर सकता है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 51: प्रत्येक जीव स्वतंत्र है कोई किसी और पर निर्भर नहीं करता
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 52: शांति और आत्म-नियंत्रण अहिंसा है
Lord Mahavir भगवान् महावीर

Quote 53: किसी आत्मा की सबसे बड़ी गलती अपने असल रूप को ना पहचानना है, और यह केवल आत्म ज्ञान प्राप्त कर के ठीक की जा सकती है
Lord Mahavir भगवान् महावीर
यह भी पढ़ें:-

Note: - आप अपने comments के माध्यम से बताएं कि Lord Mahavira Quotes in Hindi आपको कैसा लगा।
Share it:

Hindi Quotes

Post A Comment:

0 comments: