बारिश पर चुनिन्दा शायरी | Barish Status In Hindi for Whatsapp FB

Barish Status in Hindi, Rain Status In Hindi, Shayari On Barish, Rainy Day Status, Barish Ki Shayari, Barish Shayari in Hindi, Barish Shayari Romantic in Hindi.
Share it:

बारिश पर चुनिन्दा शायरी Shayari on Barish

Barish Status in Hindi

1:- आज बारिश की बूंदों से जलन हो रही हैं,
 जिसे मैं छू नहीं पाता उसे वो अपनी बूंदों से छू-छू कर भीगा रही है.

 Aaj Barish Ki Bundo Se Jalan Ho Rahi Hai, Jise Mai Chhu Nahi Pata, Use Wo Apani Bundo Se Chhu-Chhu Kar Bheega Rahi Hai.


2:- प्यार में एक ही मौसम है बहारों का मौसम
 लोग मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं.

 Pyar Me Ek Hi Mausam Hai Baharo Ka Mausam,
 Log Mausam Ki Trah Fir Kese Badal Jate Hai. 

3:- अब जितना बरसना है बरसले ए बारिश,
 वो चला गया है जिसके साथ मे तुम्हारे इस तोहफे को सीने से लगा लिया करता था.

 Ab Jitna Barasna Hai Brasle E Barish,
 Vo Chala Gaya Hai Jiske Sath Me Tumhare Es Tohfe Ko Sene,
 Se Laga Liya Karta Tha.
Barish Status in Hindi
4:- वो मेरे रुबरु आया भी तो बारीशों के मौसम में,
 मेरे आंसु बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा.

 Vo Mere Rubru Aya Bhi To Barisho Ke Mausam Me,
 Mere Anshu bah Rahe The Aur Vo Barsat Samaj Betha.

5:- आज बारिश में तुम्हारे संग नहाना है, सपना ये मेरा कितना सुहाना है,
 बारिश के कतरे जो तेरे होंठों पे गिरे, उन कतरों को अपने होंठों से उठाना है.

 Aaj Barish Me Tumhare Sang Nahana hai, Sapna Ye Mera Kitna Suhana hai.
 Barish Ke katre Jo Tere Hotho Pe Gere, Un Katro Ko Apne Hotho Se Uthan hai.
Barish Status in Hindi

6:- आज तो बहुत खुश हो गए आप?
 क्योकि, बारिश जो हो रही है, और बारिश मैं तो, सभी मेंडक खुश होते हैं.

 Aaj To Bahut Khush Ho Gaye Aap,
 Kyuki Barish Jo Ho Rahi hai, Aur Barish me To Sabhi Medhek Khush Hote Hai.

7:- क्या तमाशा लगा रखा है, तूने ए-बारिश बरसना ही है, तो जम के बरस.
 वैसे भी इतनी रिमझिम तो मेरी आँखो से रोज हुआ करती है.

 Kya Tamasha laga Rakha hai, Tune E barish Brasna Hi Hai To Jam Ke Brash,
 Vese Bhi Etni Rimjim To Meri Ankho Se, Roj Huwa Karti Hai.
Barish Status in Hindi
8:- आज कुछ और नहीं बस इतना सुनो मौसम हसीन है, लेकिन तुम जैसा नहीं.

 Aaj Kuch Aur Nahi Bas Etna Suno Mausam Hasin Hai, Lakin Tum Jesa Nahi.

9:- बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर उनकी‬‎ और हम उनसे मिलनें की चाहत में भीग जाते हैं‬.

 Brish ki Bundo me Jhlkti Hai Tasveer Unki Aur Hum Unse Milne Ki Chahat Me Bhig Jate Hai.

10:- हवा भी रूक जाती है कहने को कुछ तराने,
 बारिश की बूंदे भी उसे छूने को करती है बहाने.

Hawa Bhi Ruk jati hai Kahne Ko Kuch Trane,
 Barish ki Bunde Bhi Use Chune Ko Karti hai Bhane.
Barish Status in Hindi

11:- कहीं फिसल ना जाओ ज़रा संभल के रहना,
 मौसम बारिश का भी है और मुहब्बत का भी.

 Kahi Fisal Na jayo Zara Sambhal Ke Rahna.
 Mausam barish ka Bhi hai Aur Mohabbat Ka Bhi.

12:- परदेस में क्या महसूस करें,
बारिश का मज़ा मिट्टी की महक़
 जब गाँव में अपने होती है,
बरसात से खुशबू आती है.

 Pardesh Me kya Mahsus Kare,
 Barish Ka Maja Mitti Ki Mahak,
 Jab Gawn Me Apne Hoti Hi
 Barsat Se Khusbu Aati Hai.
Barish Status in Hindi
13:- उसे बारिश‬ मे भीगना अच्छा लगता है और ‪‎मुझे‬ सिर्फ़ बारिश मे भीगती हुयी ‪‎वो‬

 Use Barish Me Bhigana Achchha Lagata Hai. Aur Mujhe Sirf Barish Me Bhigati Huyi Wo.

14:- बारिश और मोहब्बत" दोनो ही य़ादगार होते है.
 फर्क सिर्फ़ इतना होता है. बारिश से ज़िस्मं भीगता है, और मोहब्बत से आँखे.

 Barish Aur Mohabbat Dono Hi Yaadgaar Hote Hai.
 Fark Itana Hota Hai, Barish Se Zism Bhigata Hai, Aur Mohabbat Se Ankhen.

15:- कहीं फिसल न जाऊं तेरे खायलो में चलते चलते.
 अपनी यादों को रोको. मेरे शहर में बारिश हो रही है.

Kahi Fisal Naa Jau Tere Khyalo Me Chalate-Chalate,
 Apani Yaadon Ko Roko, Mere Shahar Me Barish Ho Rahi Hai.
Barish Status in Hindi

16:- सुना है बहुत बारिश है तुम्हारे शहर में, ज़्यादा भीगना मत.
 अगर धुल गयी सारी ग़लतफ़हमियाँ, तो बहुत याद आएँगे हम.

Suna Hai Bahut Barish Hai Tumhare Shahar Me, Jyaada Bheegana Mat. Agar Dhul Gayi Sari Galfahamiyan, To Bahut Yaad Aayenge Ham.

17:- आज फिर मौसम नम हुआ, मेरी आँखों की तरह,
 शायद बादलों का भी दिल, किसी ने तोड़ा होगा.

 Aaj Fir Mausam Nam Hua, Meri Ankho Ki Trah,
 Shayad Badalo Ka Bhi Dil. Kisi Ne Toda Hoga.

18:- ए बादल इतना बरस के नफ़रतें धुल जायें...
 इंसानियत तरस गयी है मुहब्बत के सैलाब को

 E Badal Itana Baras Ke Nafarate Dhul Jaye,
 Insaniyat Taras Gayi Hai Mohabbat Ke Shailab Ko.
Rain Status in Hindi
19:- वाह मौसम आज तेरी अदा पर दिल खुश हो गया,
 याद मुझको वो आई और बरस तू गया.

Wahh Mausam Aaj Teri Ada Par Dil Khush Ho Gaya,
 Yaad Mujhako Wo Aayi Aur Tu Baras Gaya.

20:- कभी इश्क़ करना तो बारिश की बूंदों सा करना,
 जो तन पे गिरे और अंदर तलक रूह भीग जाये.

 Kabhi Ishk Karana To Barish Ki Bundo Sa Karana,
 Jo Tan Par Gire Aur Andar Talak Ruh Bheeg Jaye.

Barish Status in Hindi

21:- तुम्हारे शहर का मौसम बङा सुहाना है मैं एक शाम चुरा लूं अगर बुरा न लगे.

 Tumhare Shahar Ka Mausam Bada Suhana Hai, Me Ek Sham Chura Lu Agar Bura Na Lage.

22:- ये हसीं मौसम, ये नज़ारे, ये बारिश, ये हवाएँ,
 लगता है मोहब्बत ने फिर मेरा साथ दिया है.

 Ye Hansi Mausam Ye Njare Ye Barish Ye hawae,
 Lagta Hai Mosabbat Ne Fir Mera Sath Diya Hai.

23:- क्यों आग सी लगा के गुमसुम है चाँदनी,
 सोने भी नहीं देता मौसम का ये इशारा.

 Kyu Aag Se lagi hai Gumsum Hai Chandni,
 Sone Bhi Nahi Deta Mausam ka Ye Eshra.

24:- ऐ बारिश ज़रा थम के बरस जब मेरा यार आ जाये तो जम के बरस
 पहले न बरस की वो आ न सकें फिर इतना बरस की वो जा न सकें.

 Ye barish Tham Ke Bras, Jab Mera Yar Aa Jaye To Jam Ke Bras, Pahle Na Bras Ki Vo Na Aa sake, Fir Itna Bras Ki Vo Ja Na Sake.
Rain Status in Hindi
25:- हमें क्या पता था, ये मौसम यूँ रो पड़ेगा.
 हमने तो आसमां को बस अपनी दास्ताँ सुनाई है.

 Hume Kya Pata Tha, Ye Mausam Yu Ro Padega,
 Humne To Aasma Ko Bas, Apni Dasta Sunae Hai.
Rain Status in Hindi

26:- मजबूरियॉ ओढ़ के निकलता हूं घर से आजकल,
 वरना शौक तो आज भी है बारिशों में भीगनें का.

 Majburiyan Odh Ke Niklta Hun Ghar Se Aajkal.
 Varna Shok To Aaj Bhi Hai Barish Me Bhigne Ka .

27:- जिस के आने से मेरे जख्म भरा करते थे,
 अब वो मौसम मेरे जख्मों को हरा करता हैं.

 Jis Ke Aane Se Mere Jakhm Bhra Karte The,
 Ab Vo Mausam Mere Jakhmo Ko Hara Karta hai.

28:- तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद,
 काले स्याह बादल ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे.

Tapish Aur Bad Gai In Chand Bundo Ki Bad,
 Kale Shyah Badal Ne Bhi Bas Yu Hi Bahlaya Mujhe.
Rain Status in Hindi
29:- रिम झिम रिम झिम बरस रही है, याद तुम्हारी कतरा कतरा.

 Rim Jhim Rim Jhim Brash Rahi Hai, Yad Tumhari Katra Katra.

30:- बारिश की बूँदों में झलकती है, तस्वीर उनकी‬‎ और हम उनसे मिलनें की चाहत में भीग जाते हैं.

 Barish Ki Bundo Me jhalakti Hai Tasveer Unki, Aur Hum Unse Milne Ki Chahat Me Bhig Jate Hai.
Rain Status in Hindi

31:- इस बरसात में हम भीग जायेंगे, दिल में तमन्ना के फूल खिल जायेंगे,
 अगर दिल करे मिलने को तो याद करना बरसात बनकर बरस जायेंगे.

 Es Barsat Me Hum Bhig Jayege, Dil Me Tamnna Ke Ful Khil jayege, Agar Dil Kare Milne Ko To Yad Karna, Barsat Bankar Brash Jayege.

32:- तेरी गलियों में ना रखेंगे कदम आज के बाद क्योंकि,
 किचड़ हो गया है, बरसात के बाद

 Teri Galtiyon Me Na Rakhege Kadam Aaj Ke Bad,
 Kyuki Kichad Ho Gaya Hai Barsat Ke Bad.

33:- छत टपकती है उसके कच्चे घर की,
 वो किसान फिर भी बारिश की दुआ करता है.

 Chat Tapkti Hai Uske Kacche Ghar Ki,
 Vo Kishan Fir Bhi Barish ki Duwa Karta Hai.

34:- पता नही ऐसा क्या है इस बारिश, मे जितनी ज़्यादा बरस रही है, उतना ही तुम याद आ रहे हो

 Pata Nahi Yesa Kya Hai Es Barish, Me Jitna Jayda Bras Rahi Hai, Utna Hi Tum Yad Aa Rahe Ho.

35:- आज भीगी है पलके किसी की याद में आकाश भी सिमट गया हैं अपने आप
 ओस की बूँद ऐसी गिरी है ज़मीन पर मानो चाँद भी रोया हो उनकी याद में.

 Aaj Bhigi Hai Palke Kisi Ki Yad Me, Akash Bhi Simat Gaya Hai Apne Aap,
 Aos ki Bund Yese Giri Hai Zamin Par, Mano Chand Bhi Roya Ho Unki Yad Me.
Rain Status in Hindi

36:- ज़रा ठहरो के बारिश है यह थम जाए तो फिर जाना,
 किसी का तुझ को छु लेना मुझे अच्छा नहीं लगता.

 Zara Tharo Ke Barish Hai Yah Tham Jaye To Fir Jana
 Kisi ka Tujko Chu Lena Mujhe Accha Nahi Lagta.
Rain Status in Hindi
37:- जब जब आता है यह बरसात का मौसम, तेरी याद होती है साथ हरदम.
 इस मौसम में नहीं करेंगे याद तुझे यह सोचा है हमने, पर फिर सोचा की बारिश को कैसे रोक पाएंगे हम.

 Jab Jab Aata Hai Yah Barsat Ka Mausam, Teri Yad Hoti Hai Sath Hardam,
 Es mausam Me Nahi Karege Yad Tujhe Yah Socha Hai Humne, Par Fir Socha Ki Barish Ko Kese Rok payege Hum.

38:- मत पूछ कितनी मोहब्बत है मुझे उस से,
 बारिश की बूँद भी अगर उसे छु ले तो दिल में आग लग जाती है

 Mat Punch Kitni Mohabbat Hai Mujhe Usse,
 Barish Ki Bund Bhi Agar Use Chu Le To Dil Me Aag lag jati Hai.

39:- आज फिर तेरी याद आई बारिश को देख कर
 दिल पे ज़ोर न रहा अपनी बेबसी को देख कर
 रोये इस क़दर तेरी याद में
 बारिश भी थम गयी मेरी बारिश देख कर.

 Aaj Fir Teri Yad Yaye Barish Ko Dekh Kar,
 Dil Pe Jor Na Raha Apni Bebasi Ko Dekhkar,
 Roye Es Kadar Teri yad Me,
 Barish Bhi Tham gaye Meri Barish Dekh Kar.

40:- जो आना चाहो हज़ारों रास्ते न आना चाहो तो हज़ारों बहाने मिज़ाज-ऐ-बरहम,
 मुश्किल रास्ता बरसती बारिश और ख़राब मौसम

 Jo Aana Chaho Hajaro raste, Na Aana Chaho To hajaro Bhane, Mijaj e Beraham Mushkil Rasta, Barsti barish Aur Khrab Mausam.

41:- जो मुँह को आ रही थी वो लिपटी है पाँवों से
 बारिश के बाद मिटटी की फितरत बदल गयी.

 Jo Muh Ko AA Rahi Thi Vo Lipti Hai Panvo Se,
 Barish Ke Bad Mitti Ki Fitrat Badal Gaye.

Rain Status in Hindi

42:- खूब हौसला बढ़ाया आँधियों ने धूल का,
 मगर दो बूँद बारिश ने औकात बता दी.

 Khub Hausla Badaya Adhiyon Ne Dhul Ka,
 Magar Do Bund barish Ne Aukat Bata De.

43:- भीगेँगे जो किसी रोज हम मोहब्बत की बरसात में
 फिर कमज़ोर से इस दिल को इश्क का बुखार पक्का है.

 Bhigege Jo Kisi Roj Hum Mohabbat Ki barsat Me,
 Fir Kamjor Se Es Dil Ko Ishk Ka Bukhar Pakka Hai.
Shayari on Barish
44:- तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद,
 काले सियाह बादल ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे.

 Tapish Aur Bad gai En Chand Bundo Ke Bad
 Kale Siyah Badal Ne Bhi Bas Yu Hi Bahlaya Mujhe.

45:- दुआ बारिश की करते हो मगर छतरी नहीं रखते,
 भरोसा है नहीं तुमको खुदा पर क्या जरा सा भी.

 Duwa Barish Ki Karte Ho Magar Chatri Nahi Rakhte,
 Bhrose Hai Nahi Tumko Khuda par Kya Jara Sa Bhi.

46:- गर मेरी चाहतों के मुताबिक, जमाने में हर बात होती..
 तो बस मैं होता वो होती, और सारी रात बरसात होती..

 Gar Meri Chahto Ke Mutabik jmane Me Har bat Hoti,
 To Bas Me Hota Vo Hoti Aur Sari Rat Barsat Hoti.
Shayari on Barish

47:- एक ख्वाब ने आँखे खोली हैं, क्या मोड़ आया है कहानी में,
 वो भीग रही थी बारिश में और आग लगी है पानी में.

 Ek Khwab Ne Ankhe Kholi Hai, Kya Mod Aya hai Kahani Me,
 Vo Bhig Rahi Thi Barish Me Aur Aag Lagi Hai Pani Me.
Shayari on Barish
48:- पूछते हो ना मुझसे तुम हमेशा की मे कितना प्यार करता हू तुम्हे
 तो गिन लो बरसती हुई इन बूँदो को तुम

 Unchte Ho Na Mujhse Tum Hamesha ki Me Kitna Pyar karta Hun Tumhe,
 To Gin lo barsti Hui En Bundo ko Tum.

49:- जब जब गरजते है ये बादल मेरे दिल की धड़कन बढ़ जाती है,
 और मेरे दिल की हर एक धड़कन से आवाज़ आती है. तुम कहा हो?

 Jab jab Garjte Hai Ye Badal Mere Dil Ki Dhankan Bad jati Hai,
 Aur Mere Dil Ki Har Ek Dhakan Se Awaz Aati Hai Tum Kaha Ho?

50:- बादलों से कह दो, जरा सोच समझ के बरसे,
 अगर हमें उसकी याद आ गई, तो मुकाबला बराबरी का होगा.

 Badlo Se Kah Do, Jara Soch Samaj Ke Barse,
 Agar Hume Uski Yad aa Gai, To Mukabla Brabri Ka Hoga.

51:- कल उसकी याद पूरी रात आती रही, हम जागे पूरी दुनिया सोती रही,
 आसमान में बिजली पूरी रात होती रही, बस एक बारिश थी जो मेरे साथ रोती रही.

 Kal Uski Yad Puri Rat Aati Rahi, Hum Jage Puri Duniya Soti Rahi Aasman Me Bijli Puri Rat Hoti Rahi, Bas Ek Barish Thi Jo Mere sath Rothi Rahi.
Shayari on Barish

52:- जब भी होगी पहली बारिश तुमको सामने पाएंगे,
 वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम कैसे देख पाएंगे.

 Jab Bhi Hogi Pahli Barish Tumko Samne Payege,
 Vo Bundo Se Bhra Chehra Tumhra Hum Kese Dekh Payenge.

53:- दिल की बाते कौन जाने, मेरे हालात को कौन जाने,
 बस बारिश का मौसम है, पर दिल की ख्वाहिश कौन जाने,
 मेरी प्यास का एहसास कौन जाने 

 Dil Ki Bate Kon jane, Mere Halat Ko Kon jane,
 Bas Barish ka Mausam Hai, Par Dil Ki Khvahis Kon Jane,
 Mere Pyas Ka Ehasas Kon Jane?

54:- इन आँखों से दिन-रात बरसात होगी अगर ज़िंदगी सर्फ़-ए-जज़्बात होगी.!!

 En Ankho Se Din Rat Barsat Hogi, Agar Jingi Sirf e Jazbat Hogi.
Shayari on Barish
55:- मौसम-ए-बारिश की अब ज़रूरत नहीं, मेरे शहर को या रब..
 अब तेरी रहमतों में भीग़ जाने के लिये माह-ए-रमज़ान"की बरक़तें ही काफ़ी है.

 Mausam-E-Barish Ab Jarurat Nahi, Mere Shahar Ko Ya Rab,
 Maah Ramzaan Ki Barakate Hi Kafi Hai.

56:- बारिश‬ के ‪बाद‬ तार पर ‪टंगी‬ ‪आख़री‬ बूंद‬ से पूछना, क्या‬ होता है ‪अकेलापन?

 Barish Ke Baad Taar Par TangiAakhri Bund Se Puchhana, Kya Hota Hai Akela Pan?

57:- बेवजह अब ज़िन्दगी में प्यार के बीज न बोए कोई,
 सभी मोहब्बत के पेड़ हमेशा ग़म की बारिश ही लाते है

 Bevazah Ab Zindagi Me Pyaar Ke Beej Naa Boye Koi,
 Sabhi Mohabbat Ke Ped Hamesha Gam Ki Hi Barish Late Hain.
Shayari on Barish

58:- कितना अधूरा लगता है तब, जब बादल हो पर बारिश ना हो,
 जब जिंदगी हो पर प्यार ना हो, जब आँखे हो पर ख्वाब ना हो, और जब कोई अपना हो पर साथ ना हो.

 Kitana Adhura Lagata Hai Tab, Jab Badal Ho Par Barish Na Ho.
 Jab Zindagi Ho Par Pyaar Na Ho, Aur Jab Koi Apana Ho Par Paas Na Ho.

59:- खुद भी रोता है, मुझे भी रुला के जाता है,
 ये बारिश का मौसम, उसकी याद दिला के जाता है.

 Khud Bhi Rota Hai, Mujhe Bhi Rula Ke Jata Hai,
 Ye Barish Ka Mausam, Unki Yad Dila Ke Jata Hai.

60:- किस मुँह से इल्ज़ाम लगाएं बारिश की बौछारों पर,
 हमने ख़ुद तस्वीर बनाई थी मिट्टी की दीवारों पर.

 Kis Muh Se Eljam Lgaye Barish Ki Baucharon Par,
 Humne Khud Tasveer Bnae Thi Mitti Ki Devaron Par.

61:- पहले रिम-झिम फिर बरसात और अचानक कडी धूप,
 मोहब्बत और अगस्त की फितरत एक सी है..

 Pahle Rim Jhim Fir Barsat Aur Achanak Kadi Dhup,
 Mohabbat Aur Augst Ki Fitrat Ek Se Hai.
Shayari on Barish
62:- खुश नसीब होते हैं बादल, जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं,
 और एक बदनसीब हम हैं, जो एक ही दुनिया में रहकर भी मिलने को तरसते

 Khusnasib Hote Hai Badal, Jo Dur Rahkar Bhi Zamin Par Braste Hai, Aur Ek Badnasib Hum hai. Jo Ek Hi Duniya Me Rahkar Bhi Milne Ko Traste.

63:- लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है

 Lutf Jo Us Ke Entjar Me Hai, Vo Kha Mausme E Bahar Me Hai.

64:- बदला जो रंग उसने हैरत हुयी मुझे, मौसम को भी मात दे गयी फ़ितरत जनाब की.

 Badla Jo Rang Usne Heerat Hue Mujhe, Mausam Ko Bhi Mat De Gaye Fitrat janab Ki.
Barish Ki Shayari

65:- लो बदल गया मौसम हूबहू तुम्हारी तरह.

 Lo Badal Gaya Mausam Hubhu Tumhari Trah.

66:- कुछ नशा तेरी बात का है कुछ नशा धीमी बरसात का है
 हमे तुम यूँही पागल मत समझो यह दिल पर असर पहली मुलाकात का है.

 Kuch Nasha TEri Bat Ka Hai, Kuch Nasha Dhimi Barsat ka hai,
 Hume Tum Yuhi Pagal Mat Samjho, Yah Dil Par Asar pahle Mulakat Ka Hai.

67:- एक हम हैं जो इश्क़ कि बारिश करते है, एक वह हैं जो भीगने को तैयार ही नहीं.

 Ek Hum Hai Jo Ishk Ki Barish Karte Hai, Ek Wah Hai Jo Bhigne Ko Tayar Nahi.

68:- क्या मौसम आया है, हर तरफ पानी ही पानी लाया है, एक जादू सा छाया है,
 तुम घरसे बहार मत निकलना वरना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं, और मेंढक निकल आया है.

 Kya Mausam Aaya Hai Har Traf Pani Hi Pani laya Hai, Ek jadu Sa Chaya Hai, Tum Ghar Se Bahar mat Niklna varna Log Kahege, Barsat Hue Nahi Aur Medhak Nikal Aya hai.
Barish Ki Shayari
69:- मुझे मार ही ना डाले इन बादलों की साज़िश,
 ये जब से बरस रहे हैं तुम याद आ रहे हो.

 Mujhe Mar Hi Na Dale En Badlo Ki Sajish,
 Ye Jab Se Brash Rahe hai Tum Yad Aa Rahe Ho.

70:- तब्दीली जब भी आती है मौसम की अदाओं में, 
 किसी का यूँ बदल जाना, बहुत याद आता है.

 Tabdili jab Bhi Ati Hai Mausam Ki Adao Me, 
 Kisi Ka Yu Badal Jana Bahut Yad Aata Hai.
Barish Ki Shayari

71:- बारिश के हर कतरे से आवाज़ तुम्हारी आती है.

 Barish Ke Har Katre Se Awaz Tumhari Aati Hai.

72:- आज दिन भर बारिश होने की संभावना है, कृपया अपने दिमाग वाली जगह को प्लास्टिक से ढक लो, क्योकि खाली जगहों में पानी जल्दी भरता है.

 Aaj Din Bhar Barish Hone Ki Sambavna Hai, Krpya Apne Dimag Vali Jgha Ko Plastik Se Dhak lo, Kyuki Khali Jgahan Me Pani Jaldi Bhrta Hai.

73:- सुना है बारिश में दुआ क़बूल होती है अगर हो इज्जाजत तो मांग लू तुम्हे?

 Suna Hai Barish Me Duwa kabul Hoti Hai, Agar Ho Ejajat To Mang Lu Tumhe?

74:- मेरे दिल की जमीन बरसों से बंजर पडी है.
 मै तो आज भी बारिश का इन्तेजार कर रहा हूँ.

 Mere Dil Ki Zamin Barso Se Banjar Padi Hai, 
 Me To Aaj Bhi Barish Ka Intjar kar Raha Hun.
Barish Ki Shayari
75:- जाने क्यूँ लोग हमें आज़माते है, कुछ पल साथ रह कर भी दूर चले जाते है,
 सच ही कहा है कहने वाले ने, सागर के मिलने के बाद लोग बारिश को भूल जाते है.

 Jane Kyu Log Hume Aajmate Hai Kuch Pal Sath Rah Kar Bhi Dur Chle Jate Hai,
 Sach Hi Kha Hai Kahne Vale Ne, Sagar Ke Milne Ke Bad Log Barish Ko Bhul Jate Hai.

76:- कच्ची मिट्टी का बना होता है उम्मीदों का घर,
 ढह जाता है हकीकत की बारिश में अक्सर.

 Kacchi Mitti Ka Bana Hota Hai Ummido Ka Ghar,
 Dah jata Hai hakikat Ki Barish me Aksar.
Barish Shayari in Hindi

77:- ये मौसम भी कितना प्यारा है, करती ये हवाएं कुछ इशारा है,
 जरा समझो इनके जज्बातों को, ये कह रही हैं किसी ने दिल से पुकारा है।

 Ye Mausam Bhi Kitna Pyara Hai, Karti Ye Hawayen Kuch Ishara Hai,
 Jara Samjho Inke Jazbaton Ko, Ye Kah Rahin Hai Kisi Ne Dil Se Pukara Hai.

78:- रिमझिम तो है मगर सावन गायब है, बच्चे तो हैं मगर बचपन गायब है.
 क्या हो गयी है तासीर ज़माने की यारों अपने तो हैं मगर अपनापन गायब है.

 Rimjim to Hai Magar Savan Gayab Hai, Bacche To Hai Magar Bachpan gayab Hai,
 Kya Ho Gaye Hai Taser Zamane Ki Yaro, Apne To Hai Magar Apnapan Gayab Hai.
Barish Ki Shayari
79:- ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं
 तू ने मुझ को खो दिया पर मैं ने तुझे खोया नहीं.

 Gam Ki Barish Ne Bhi Tere naksh Ko Dhoya Nahi,
 Tu Ne Mujh Ko Kho Diya Par Me Ne Tujhe Khoya Nahi.

80:- रईसों के वास्ते बारिश ख़ुशी की बात सहीं मुफलिस की छत के लिये इम्तेहान होता है.

 Rahison Ke Vaste Barish Khusi Ki Bat Sahi, Muflis Ke Chat Ke Liye Emtehan Hota Hai

81:- मेरे घर की मुफलिसी को देख कर बदनसीबी सर पटकती रह गई
 और एक दिन की मुख़्तसर बारिश के बाद छत कई दिन तक टपकती रही रह गई.

 Mere Ghar Ki Muflisi ko Dekh Kar Badnasibi Sar Patkti Rah gai,
 Aur Ek Din Ki Mukhtsar Barish Ke Bad Chat Kai Din Tak Tapkti Rah Gayi.

82:- अभी तो खुश्क़ है मौसम, बारिश हो तो सोचेंगे 
 हमें अपने अरमानों को, किस मिट्टी में बोना है.

 Abhi To Khusk Hai Mausam Barish Ho To Sochege,
 Hume Apne Armano Ko Kis Mitti Me Bona Hai.
Barish Shayari in Hindi

83:- गुल तेरा रंग चुरा लाए हैं गुलज़ारों में
 जल रहा हूँ भरी बरसात की बौछारो में.

 Gul Tera Rang Chura laye Hai Guljaron Me,
 Jal Raha Hun Bhari Barsat Ki Baucharo Me .
Barish Shayari Romantic in Hindi
84:- मासूम मोहब्बत का बस इतना फसाना है,
 कागज़ की हवेली है बारिश का ज़माना है.

 Masum Mohabbat Ka Bas Itna Fsana Hai,
 Kagaz Ki Hveli Hai Barish Ka Jamana Hai.

85:- भला काग़ज़ की इतनी कश्तियाँ हम क्यों बनाते हैं,
 न वो गलियाँ कहीं हैं अब न वो बारिश का पानी है.

 Bhla Kagaj Ki Etni Kastiyan Hum Kyu Bnate Hai,
 Na Vo Galiyan Kahi Hai Ab na Vo Barish Ka Pani Hai.

86:- बरसात का मज़ा तेरे गेसू दिखा गए,
 अक्स आसमान पर जो पड़ा अब्र छा गए.

 Barsat Ka Maja Tere Gesu Dikha Gaye,
 Aksh Aasman Par Jo Pada Abra Cha Gaya.

87:- होंठो पे हंसी तो हो मगर, आँखों में बरसात ना आये.

 Hotho Pe Hansi To Ho Magar, Ankho Me Barsat Na Aaye.
Barish Shayari Romantic in Hindi
88:- बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आई,
 कुछ अपना ज़माना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई.

 Barsat Ki Bhigi Raton Me Fir Koi Suhani Yad Aai,
 Kuch Apna Zamana Yad Aaya Kuch Unki Jvani Yad Aae.
Barish Shayari in Hindi

89:- अबके बरसात की रुत और भी भड़कीली है,
 जिस्म से आग निकलती है, क़बा गीली है.

 Abke Barst Ki Rut Aur Bhi Bhdkili Hai,
 Jism Se Aag Niklti Hai Kaba Gili Hai.

90:- बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,
 किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है.

 Barsat Ka Badal To Devana Hai Kya Jane,
 Kis Rah Se Bachna Hai Kis Chat Ko Bhigona Hai.

91:- सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ,
 मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ.

 Sene Me Samundar Ke lave Sa Sulagta Hun,
 Me Teri Enayat Ki Barish Ko Trasta Hun.

92:- किस को ख़बर थी साँवले बादल बिन बरसे उड़ जाते हैं
 सावन आया लेकिन अपनी क़िस्मत में बरसात नहीं

 Kis Ko Khabar Thi Savle Badal Bin Barse Ud Jate Hai,
 Savan Aaya Lakin Apni Kismat Me Barsat Nahi.

93:- आज आई बारिश तो याद आया वो जमाना,
 वो तेरा छत पे रहना और मेरा सडको पे नहाना.

 Aaj Ayi Barish To Yad Aaya Jamana,
 Vo Tera Chat Pe Rahhna Aur Mera Sadko Pe Nahna .

94:- ये बारिश ये हसीन मौसम और ये हवाये
 लगता है आज मोहब्बत ने किसी का साथ दिया है.

 Ye Barish Ye Haseen Mausam Aur Ye Hawaye,
 Lagata Hai Aaj Mohabbat Ne Kisi Ka Sath Diya Hai.
Barish Shayari Romantic in Hindi
95:- ज़रा ठहरो, बारिश थम जाए तो फिर चले जाना
 किसी का तुझ को छू लेना मुझे अच्छा नहीं लगता.

 Jara Thaharo Barish Tham Jaye To Fir Chali Jana,
 Kisi Ka Tujhe Chhu Lena Mujhe Achchha Nahi Lagata..
Barish Shayari in Hindi

96:- अब कौन घटाओं को, घुमड़ने से रोक पायेगा,
 ज़ुल्फ़ जो खुल गयी तेरी, लगता है सावन आयेगा.

 Ab Kaun Ghatao Ko Ghumadane Se Rok Payega,
 Zulf Jo Khul Gayi Teri, Lagata Hain Sawan Aayega.

97:- या अल्लाह हम सब पर अपनी रहमत कि बारिश कर दे
 हमारे गुनाहों को माफ कर दे.

 Ya Allah Ham Sab Par Apanai Rahamat Ki Barish Kar De,
 Hamare Gunahon Ki Mafi Kar De.

98:- उस को भला कोई कैसे गुलाब दे, आने से जिसके खुद मौसम ही गुलाबी हो जाये

 Us Ko Bhala Koi Kaise Gulab De,
 Aane Se Jisake Khud Muasam Hi Gulabi Ho Jaye.

99:- बालकनी से बाहर आकर कर देखो ए-हसीना..
 मौसम तुम से मेरे दिल की बात कहने आया है..

 Balkani Se Bahar Aakar Dekho-E-Haseena,
 Mausam Tum Se Mere Dil Ki Baat Kahane Aaya Hai.

यह भी पढ़ें:-

निवेदन: - आप अपने comments के माध्यम से बताएं कि Barish Ki Shayari, Barish Shayari in Hindi आपको कैसा लगा। और इसे अपने Facebook Friends के साथ Share जरुर करे।
Share it:

Shayari

Post A Comment:

0 comments: